पुदीना

पुदीने का उपयोग अधिकतर चटनी या मसाले के रूप में किया जाता है।  पुदीना एक सुगंधित एवं उपयोगी औषधि है। यह अपच को मिटाता है। पुदीना खाने में स्वादिष्ट पचने में हलका तीक्ष्ण, तीखा, कड़वा, उल्टी मिटाने वाला, शक्ति बढ़ाने वाला, वायु नाशक, फेफड़ों में जमे हुए कफ को बाहर निकालने वाला, अरुचि, मंदाग्नि, अफारा, दस्त, खांसी, श्वास, निम्न रक्त, हैजा, अजीर्ण आदि को मिटाने वाला है।

पुदीने का रस पीने से खांसी, उल्टी, अतिसार, वायु व क्रीमी (कीड़े) का नाश होता है। व हैजा भी ठीक  होता है। पुदीने में रोग प्रतिकारक शक्ति उत्पन्न करने की अद्भुत क्षमता होती है एवं पाचक रसों को उत्पन्न करने की क्षमता होती है। अजवायन के सभी गुण पुदीने में पाए जाते हैं।

पुदीना

पुदीने के औषधीय प्रयोग

मंदाग्नि (भूख खुलकर न लगना)  पुदीने में विटामिन ए अधिक मात्रा में पाया जाता है। पुदीने में जठराग्नि को तीव्र करने वाले तत्व अधिक मात्रा में होते हैं। इसके सेवन से भूख खुलकर लगती है। पुदीना, तुलसी, काली मिर्च एवं अदरक का काढ़ा पीने से वायु दूर होती है और भूख खुलकर लगती है।

त्वचा विकार

दाद-खाज पर पुदीने का रस लगाने से बहुत लाभ होता है।

हिचकी 

पुदीने का प्रयोग हिचकी बंद करने के लिए भी करते हैं। हिचकी बंद न हो रही हो तो पुदीने के पत्ते चबाने पर हिचकी बंद हो जाती है अथवा नींबू के रस का उपयोग करके भी हिचकी बंद हो जाती है।

पेट दर्द 

पेट दर्द के लिए सूखा पुदीना व मिश्री समान मात्रा में मिलाएं दो चम्मच फंकी पानी के साथ सेवन करें इससे पेट दर्द ठीक होता है।

त्वचा विकार

दाद-खाज पर पुदीने का रस लगाने से बहुत लाभ होता है।

हिचकी 

पुदीने का प्रयोग हिचकी बंद करने के लिए भी करते हैं। हिचकी बंद न हो रही हो तो पुदीने के पत्ते चबाने पर हिचकी बंद हो जाती है अथवा नींबू के रस का उपयोग करके भी हिचकी बंद हो जाती है।

पेट दर्द 

पेट दर्द के लिए सूखा पुदीना व मिश्री समान मात्रा में मिलाएं दो चम्मच फंकी पानी के साथ सेवन करें इससे पेट दर्द ठीक होता है।

वायु एवं (कीड़े) कृमि 

पुदीने के दो चम्मच रस में एक चुटकी काला नमक डालकर पीने से गैस वायु एवं पेट के कृमि नष्ट होते हैं।

गैस 

पेट मैं गैस बनने पर सुबह एक गिलास पानी में 20 से 25 ग्राम पुदीने का रस व 20 से 25 ग्राम शहद मिलाकर पीने से गैस की बीमारी में विशेष लाभ होता है।

दाद 

पुदीने के रस में नींबू मिलाकर लगाने से दाद में काफी आराम मिलता है।

उल्टी-दस्त, हैजा 

पुदीने के रस में नींबू का रस मिलाकर पिलाने से उल्टी-दस्त व हैजा ठीक होता है। अथवा पुदीने का अर्क देने से भी लाभ मिलता है। पुदीने का अर्क 10 से 20 मिलीग्राम की मात्रा में सेवन करें।

मुख की दुर्गंध 

पुदीने के रस में पानी मिलाकर कुल्ले करने से मुंह की दुर्गंध ठीक हो जाती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.